Skip to main content

ज़िंदगी झंड



एक भेड़ चाल ज़िंदगी,
एक भीड़ मे फँसी हुई,
ना  जानता  कोई हमें,
ना  हमको  जानना तुम्हे,
ना बैर भाव है कोई,
ना ही कोई संबंध है,
ज़िंदगी ये झंड है,
फिर भी बड़ा घमंड है.


एक छोटी सी घड़ी मेरी,
सोने कहाँ देती कभी,
जो Snooze करके हम पड़े,
जागा तो बोला..ओह तेरी!
फिर सोचा अपना boss भी ,
कहाँ वक़्त का पाबंद है,
ज़िंदगी ये झंड है,
फिर भी बड़ा घमंड है.




जो जैसे तैसे बस मिली,.
हर सिग्नल पे रूकती चली,
होता तो हमको गम अगर,
जो बस की अगली सीट पर,
बैठी ना होती वो कुड़ी,
जी आइटम प्रचंड है,
ज़िंदगी ये झंड है,
फिर भी बड़ा घमंड है.


एक इंतज़ार मैं कटी,
अपनी तो सारी ज़िंदगी,
वो तीस दिन की salary,
जो बीस दिन मे ही उड़ी,
बचे जो दस हैं और दिन,
क्रेडिट-कार्ड का प्रबंध है,
ज़िंदगी ये झंड है,
फिर भी बड़ा घमंड है.


नारी से कुछ तो नाता है,
अपनी समझ ना आता है,
दिल लेके अपना हाथ मैं,
ज्यों ही गये हम पास में,
वो क्यों थी चीख सी पड़ी,
तू चूतिया अखंड है,
ज़िंदगी ये झंड है,
फिर भी बड़ा घमंड है.


बिल्कुल थी लाखों खावहिशे,
थे हम भी बिल्कुल मनचले,
था हार का भी क्षोभ संग,
था दोस्तों का साथ भी,
क्या रोकता कोई हमें,
हम भी तो बस दबंग हैं,
ज़िंदगी ये झंड है,
फिर भी बड़ा घमंड है! 

Comments

  1. Hilarious!! Kya likha hai sahab, zindagi ki sachaai, ko is andaaz me agar us ladki(Bus waali) ko suna dete, to shaayad abhi ek prem kavita publish hui hoti!

    It was literally LOL. :)

    ReplyDelete
  2. are gajab amit..

    jindagi jhand hai
    bus tum doston ka sang hai..

    keet it up..

    --Prerit

    ReplyDelete
  3. @prerit Sir : Bahut bahut Dhanyawaad prabhu! :)

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

एक बेतुकी कविता

कभी गौर किया है  पार्क मे खड़े उस लैंप पोस्ट पे , जो जलता रहता है , गुमनामी मे अनवरत, बेवजह!
या  दौड़े हो कभी, दीवार की तरफ, बस देखने को एक नन्ही सी चीटी ! एक छोटे से बच्चे की तरह, बेपरवाह!
या फिर कभी  लिखी है कोई कविता, जिसमे बस ख़याल बहते गये हो, नदी की तरह ! और नकार दिया हो जिसे जग ने  कह कर, बेतुकी .

या कभी देखा है खुद को आईने मे, गौर से , उतार कर अहम के  सारे मुखौटे, और बड़बड़ाया  है कभी.. बेवकूफ़.

गर नही है आपका जवाब, तो ऐसा करते है जनाब, एक  बेवजह साँस की ठोकर पर, लुढ़का देते हैं ज़िंदगी, और देखते हैं की वक़्त की ढलानों पर, कहाँ जाकर ठहेरती है ये, हो सकता है, इसे इसकी ज़मीं मिल जाए. किनारो से ज़रा टूट कर ही सही, और आपको मिल जाए शायद, सुकून... बेहिसाब!


ख्वाबों वाली मछली

किसी ने देखा होगा ख्वाब समुन्दरो का,आसमानो का, और समुंदर मे तैरते आसमान के अक्स का. समुंडरों ने देखा होगा बर्फ़ाब पहाड़ों का ख्वाब ,  सफेदी सी लिपटी बर्फ की चादरों का,और एक छोटीसी मनचली मछली का.
उस मछली ने देखा होगा ,  ज़मीन का ख़्वाब. फिर किसी रेंगते ख्वाब ने कोई झुका हुआ सा ख्वाब,  किसी सीधे खड़े ख्वाब ने  कदमो का ! उस कदम ने अपने  मे साथ चलते हमकदम का ख्वाब देखा होगा  और फिर ... और फिर .. फिर दोनो ने मिलकर कई सारे ख्वाब.
ख्वाब जैसे उँचा मकान , पहाड़ के उस पार जाती सड़क. किताबे, बस्तियाँ, शराब, महताब. और फिर, ख्वाबों का एक रेला चल पड़ा होगा, कुछ पहाड़ के इस पार रह गये होंगे, कुछ पहाड़ के उस पार. पर अब धीरे धीरे सब अलग अलग ख्वाब देखने लगे, कुछ दौलत का ख्वाब ,कुछ ताक़त का ख़्वाब. कुछ दर्द का ख्वाब , कुछ राहत का! कोई रोटी का, कोई शराब का, कुछ नीन्द के मारे देखने लग गये ख्वाब ख्वाब का.
अब आसमान बादलों के ख्वाब देखने लगा था  और पहाड़ बर्फ की चादरों के,  जंगल पेड़ो के ख्वाब देखने लगे और  कदम वीरानो  के। और वो मछली.. वो मछली..  प्लास्टिक के ढेर मे घिर चुकी थी, बमुश्किल शांस ले पा रही थी,  …

सड़क के उस पार

वो सड़क पार कर रही थी, मैं भी. उसने सड़क का मुआयना किया,मैने भी! वो तेज़ी से आगे बढ़ी, मैं भी. वो सड़क के उस पार थी , मैं भी!
'मेडम' आवाज़ लगाई एक ऑटो वाले ने, वो मुड़ी और मै  भी.
उसके बैग से गिरी एक चीज़
कुचलती हुई निकल गयी एक कार.
और फिर ,और बड़े तिरस्कार से बड़बड़ाई ओह ! पेन. उसे ज़रा भी अफ़सोस नही था, और मुझे.. था ,बस इसी बात का.' कि था एक जमाना के जब पेन मे रीफिल बदली जाती थी, और एहसास चिट्ठियों मे लिखे जाते थे! लिखावट को तवज़्ज़ो देते थे लोग प्रिंट आउट नही होता था तब. खबरों केलिए
कल की अख़बार का इंतज़ार होता था कॉँमेंट्री रेडियो पर भी सुनी जाती थी और सचिन ओपन करने आता था इश्क़ बस फ़िल्मो मे होता था असल ज़िंदगी मे तो  बस  चक्कर. आवारगी भी  खूब होता थी और पिटाई भी होती थी जमकर. तब  फ़िल्मो मे हीरो दौड़ते दौड़ते  बड़े हो जाते थे. और आज़ ..
सड़क पार करते-करते मैने खुद को बड़ा होते देखा !