Skip to main content

सोचता हूँ मैं..

कई बार मैं आसमान की तरफ देखता हूँ
और कुछ नही सोचता,
कई बार मैं चाँद को सोचता हूँ
आखें बंद करके,

कई बार जब तुम्हे सोचता हूँ,
तो तुम्हे  देखने लगता हूँ!
और जब देखता हूँ तुम्हे ,
तो सोचने लगता हूँ


कि  देखा जाए तो 
बहोत ज़्यादा फ़र्क नही है
देखने और सोचने मे,
देखने का तरीका है, जी बस!

कि जो देखते हैं , उसे सोच लेते हैं,
और जो सोचते हैं , उसे देख लेते हैं!
उतना ही सोच पाते हैं ,जितना देख पाते हैं
और उतना ही देख पाते हैं, जितना सोच पाते हैं!

बनाने वाले ने फिर 
क्या सोच कर
आँख और अकल 
अलग अलग बनाई होगी?


देखा जाए तो,
इतते बड़े आसमान के नीचे
इतनी बड़ी  है दुनिया,
और कितना कम है
जो हम देख पाते हैं
या सोच पाते हैं

सोचता हूँ मैं कभी कभी, 
के देखने और सोचने का
ये जो सिलसिला नही होता,
जो यकीन नही होता अपनी आखों पर इतना,
और अपने सोचने पे इतना गुमान नही होता ,
तो क्या कुछ और देख पता मैं,
तो क्या कुछ और सोच पाता मैं!

के फिर आसमान देख कर,
 पता नही क्या सोचता?
और चाँद सोचने की,
 कुछ और बात होती.

आप भी सोचिए,
आप भी देखिए सोच कर! 

Comments

  1. Maine Bhagvan se poocha ki, "soch ke dekhu, ya dekh ke sochu",
    Bhagvan ne kaha, "jo sochega, wo dekhega.. Aur jo dekhega, usi ko sochega.."

    Jab bhi mai use dekhta hoon, sochta hu mann hee mann mei,
    Aur jab bhi mai use sochta hoon, dekhta hu mann hee mann mei..

    Bhai mast hai! :)

    ReplyDelete
  2. bananae waale ne kya sochkar duniya banai hai..firhaal to dekhkar yahi soch rahe hain :P
    good one Amit :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. Duniya dekhkar toh nahi lagta bahut soch kar banayai hogi.
      khair, aane ka Shukria! :)

      Delete
  3. bhrantiman alankar ka sundar prayog

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

एक बेतुकी कविता

कभी गौर किया है  पार्क मे खड़े उस लैंप पोस्ट पे , जो जलता रहता है , गुमनामी मे अनवरत, बेवजह!
या  दौड़े हो कभी, दीवार की तरफ, बस देखने को एक नन्ही सी चीटी ! एक छोटे से बच्चे की तरह, बेपरवाह!
या फिर कभी  लिखी है कोई कविता, जिसमे बस ख़याल बहते गये हो, नदी की तरह ! और नकार दिया हो जिसे जग ने  कह कर, बेतुकी .

या कभी देखा है खुद को आईने मे, गौर से , उतार कर अहम के  सारे मुखौटे, और बड़बड़ाया  है कभी.. बेवकूफ़.

गर नही है आपका जवाब, तो ऐसा करते है जनाब, एक  बेवजह साँस की ठोकर पर, लुढ़का देते हैं ज़िंदगी, और देखते हैं की वक़्त की ढलानों पर, कहाँ जाकर ठहेरती है ये, हो सकता है, इसे इसकी ज़मीं मिल जाए. किनारो से ज़रा टूट कर ही सही, और आपको मिल जाए शायद, सुकून... बेहिसाब!


ख्वाबों वाली मछली

किसी ने देखा होगा ख्वाब समुन्दरो का,आसमानो का, और समुंदर मे तैरते आसमान के अक्स का. समुंडरों ने देखा होगा बर्फ़ाब पहाड़ों का ख्वाब ,  सफेदी सी लिपटी बर्फ की चादरों का,और एक छोटीसी मनचली मछली का.
उस मछली ने देखा होगा ,  ज़मीन का ख़्वाब. फिर किसी रेंगते ख्वाब ने कोई झुका हुआ सा ख्वाब,  किसी सीधे खड़े ख्वाब ने  कदमो का ! उस कदम ने अपने  मे साथ चलते हमकदम का ख्वाब देखा होगा  और फिर ... और फिर .. फिर दोनो ने मिलकर कई सारे ख्वाब.
ख्वाब जैसे उँचा मकान , पहाड़ के उस पार जाती सड़क. किताबे, बस्तियाँ, शराब, महताब. और फिर, ख्वाबों का एक रेला चल पड़ा होगा, कुछ पहाड़ के इस पार रह गये होंगे, कुछ पहाड़ के उस पार. पर अब धीरे धीरे सब अलग अलग ख्वाब देखने लगे, कुछ दौलत का ख्वाब ,कुछ ताक़त का ख़्वाब. कुछ दर्द का ख्वाब , कुछ राहत का! कोई रोटी का, कोई शराब का, कुछ नीन्द के मारे देखने लग गये ख्वाब ख्वाब का.
अब आसमान बादलों के ख्वाब देखने लगा था  और पहाड़ बर्फ की चादरों के,  जंगल पेड़ो के ख्वाब देखने लगे और  कदम वीरानो  के। और वो मछली.. वो मछली..  प्लास्टिक के ढेर मे घिर चुकी थी, बमुश्किल शांस ले पा रही थी,  …

सड़क के उस पार

वो सड़क पार कर रही थी, मैं भी. उसने सड़क का मुआयना किया,मैने भी! वो तेज़ी से आगे बढ़ी, मैं भी. वो सड़क के उस पार थी , मैं भी!
'मेडम' आवाज़ लगाई एक ऑटो वाले ने, वो मुड़ी और मै  भी.
उसके बैग से गिरी एक चीज़
कुचलती हुई निकल गयी एक कार.
और फिर ,और बड़े तिरस्कार से बड़बड़ाई ओह ! पेन. उसे ज़रा भी अफ़सोस नही था, और मुझे.. था ,बस इसी बात का.' कि था एक जमाना के जब पेन मे रीफिल बदली जाती थी, और एहसास चिट्ठियों मे लिखे जाते थे! लिखावट को तवज़्ज़ो देते थे लोग प्रिंट आउट नही होता था तब. खबरों केलिए
कल की अख़बार का इंतज़ार होता था कॉँमेंट्री रेडियो पर भी सुनी जाती थी और सचिन ओपन करने आता था इश्क़ बस फ़िल्मो मे होता था असल ज़िंदगी मे तो  बस  चक्कर. आवारगी भी  खूब होता थी और पिटाई भी होती थी जमकर. तब  फ़िल्मो मे हीरो दौड़ते दौड़ते  बड़े हो जाते थे. और आज़ ..
सड़क पार करते-करते मैने खुद को बड़ा होते देखा !